Vastu for Clock watch
20 Jun

घडि़यां न सिर्फ घर का, बल्कि जीवन का भी अहम हिस्‍सा होती हैं। फिर चाहे वह दीवार-घडी हो या हाथ-घडी। बहुत कम लोग जानते हैं कि यही घडि़यां शुभाशुभ प्रभाव भी देती हैं। घडि़यों का महत्‍व केवल समय देखने या घर की साज-सज्‍जा तक नहीं है, बल्कि घडियों का सही स्‍थान निर्धारित करके आप अपने घर में खुशियों को आमंत्रित कर सकती हैं।

घडियों के बगैर जीवन लगभग अधूरा होगा। समय जानना और उसकी रफ्तार से तालमेल बैठाना जीवन का अनिवार्य अंग है। फेंग्‍शुई में घडियों को लगाने के सही स्‍थान का तर्क सहित वर्णन किया गया है। यह भी बताया गया है कि घडियों को कहां नहीं लगाना चाहिए। आइए, जानते हैं घडियों से जुडी ऐसी ही कुछ उपयोगी जानकारियां।

  • अगर आप जीवन में मान-सम्‍मान की कमी महसूस कर रहे हैं, तो घडी पूर्व दिशा की दीवार पर लगाएं। पूर्व दिशा में लगी घडी गृह स्‍वमी को मान-सम्‍मान की प्राप्ति करवाती है। नए अवसरों और आर्थिक लाभ के लिए घडी को उत्‍तर की दीवार पर लगाएं। जबकि पश्चिम की दीवार पर लगी घ‍डी उदासीनता लाती है तो दक्षिण में लगायी गयी घडी अतीत का स्‍मरण कराती है।
  • अक्‍सर देखने में आता है कि एक ही घर के अलग-अलग सदस्‍यों के कमरों लगी घडियां अलग-अलग समय दर्शाती हैं। इससे आपसी मतभेद और मन-मुटाव जन्‍म लेता है। अगर आप चाहते हैं कि आपके परिवार में तालमेल बना रहे तो घर में लगी सभी घडियों में भी समय का तालमेल दुरूस्‍त रखिए।
  • रूकी हुई, खराब या टूटी हुई घडी घर में नकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करती है। इन्‍हें तुरंत ठीक कराएं या घर से हटा दें।
  • आजकल थीम वॉच का चलन भी काफी है। छोटे-छोटे फोटो फ्रेम के बीच आकर्शक घडी या फिर फाउंटेन, प्रकृति का कोई खूबसूरत नजारा या फिर किसी जानवर या पक्षी के आकर्शक चित्रों के साथ आने वाली ये डिजाइनर घडियां या थीम वॉच लोगों को खूब लुभा रही हैं। लेकिन घडियों के साथ परिवार के सदस्‍यों के फोटों हों या फिर कोई प्राकृतिक दृश्‍य, इनका अपना महत्‍व होता है और इन्‍हें सिर्फ सौंदर्य के नजरिए से कहीं भी स्‍थापित नहीं किया जाना चाहिए। बल्कि इसके अपने नियम हैं। बेहतर है कि इन्‍हें लगाने से पूर्व किसी वास्‍तु एवं फेंग्‍शुई विशेषज्ञ की मदद ले ली जाए।
  • घडियों को घर में कभी भी ऐसे स्‍थान पर नहीं लगाना चाहिए, जिससे घर में प्रवेश करते ही आपकी नजर घड़ी पर पड़े।
  • अक्‍सर लोग बेडरूम में आकर्षक दिखने वाली बड़ी दीवार घडी का इस्‍तेमाल करते हैं। फेंग्‍शुई के अनुसार ऐसा नहीं करना चाहिए। बेडरूम में कभी भी बडी दीवार घड़ी न लगाएं। बेडरूम आराम करने और अंतरंग लम्‍हे शेयर करने का स्‍थान होता है। फेंग्‍शुई के अनुसार, बेडरूम में दीवार घडी के स्‍थान पर छोटा सा अलार्म क्‍लॉक रखा जा सकता है, जिसे आप अपनी सहुलियत के अनुसार इस्‍तेमाल कर सकें।
  • घडियों की किस्‍म भी सकारात्‍मक ऊर्जा को प्रभावित करती है। धातु की बनी घडी को पूर्व दिशा की दीवार पर नहीं लगाना चाहिए।
  • बच्‍चों के कमरे में लगी दीवार घडी सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करती है। यह बच्‍चों को वक्‍त की अहमियत का भी एहसास कराती हैं।
  • दीवार घड़ी बैठक ((लिविंग रूम), रसोईघर, बच्‍चों के कमरे में और घर में बने ऑफिस यानी व्‍यावसायिक स्‍थल में लगायी जा सकती है। कुछ लोगों को तरह-तरह के आकार-प्रकार की घडियों को घर में सजाने का शौक होता है। अगर आप भी ऐसा ही शौक रखती हैं तो घडियों को अपने लिविंग रूम की दीवार पर या गैलरी में लगा सकती हैं।

Leave a comment