Vastu for Happy Married Life
14 Jun

विवाह एक नए जीवन की शुरूआत करता है और हर कोई चाहता है कि उसका यह नया जीवन खुशियों से भरा हुआ हो। किंतु ऐसा न हो तो जीवन दोजख बन जाता है। वैवाहिक बंधन टूटने के मामले उतनी ही तेजी से बढ रहे हैं, जितनी तेजी से प्रेम-विवाह की संख्‍या बढ रही है। इसकी एक वजह है असहनशीलता, एक-दूसरे के प्रति अविश्‍वास और भोगवाद व भौतिकता को वास्‍तविक सुख समझने की मानसिकता।

आपको बता दें कि 10 में से 4 मामले ऐसे होते हैं, जब वैवाहिक बंधन में मिठास खोने की वजह वास्‍तु दोष होते हैं। एक दंपती घर से बाहर कितना भी समय व्‍यतीत करे, लेकिन वे एक-दूसरे के साथ अपना अधिकांश समय घर में ही व्‍यतीत करते हैं। और अगर ऐसे में घर ही दोषपूर्ण तरीके से बना हो, तो उन्‍हें एक दूसरे का साथ सुखद लगने के बजाए कांटे की तरह चुभने लगता है। बात-बेबात झगडना और झगडे का मारपीट या अलगाव तक पहुंच जाना ऐसे में आम होता हे। कई बार ऐसे रिश्‍ते या तो तलाक की शक्‍ल ले लेते हैं, या आत्‍महत्‍या और हत्‍या जैसे अपराध की।

आप भी अगर विवाहिता हैं और चाहती हैं कि आपका वैवाहिक जीवन सुखद बना रहे, तो अपने घर का वास्‍तु अवश्‍य दुरूस्‍त रखें। यहां हम आपको कुछ ऐसे वास्‍तु-मंत्र (टिप्‍स) बता रहें हैं, जो आपके वैवाहिक जीवन को सुखद बनाने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

  • अपने संबंध को स्‍थायी बनाने के लिए नवदंपती का बेड रूम दक्षिण-पश्चिम में बनाएं। यहां बना शयनकक्ष न सिर्फ आपके रिश्‍ते में आत्‍मीयता कायम करता है, वंश वृद्धि और परिवार को संचालित व नियंत्रित करने की कुशलता भी प्रदान करता है। अगर दक्षिण-पश्चिम में संभव न हो तो दक्षिण या पश्चिम में शयन कक्ष बना सकते हैं।
  • अगर आप खुशनुमा और प्‍यारभरा रिश्‍ता चाहते हैं, तो अपने इर्द-गिर्द दुख में डूबी, टूटे हुए दिल या रोग-शोक दर्शाने वाली, युद्ध, संताप, इंतजार या पश्‍चाताप् की तस्‍वीरें न लगाएं।
  • बेड रूम में देवी-देवताओं या मृत-परिजनों के चित्र न लगाएं। परस्पर प्रेम बना रहे इसके लिए अपने शयन कक्ष में मेंड़ेरियन डक, प्रेमी जोडे या प्रेम की प्रतीक युगल के स्‍टेच्‍यु अथवा तस्‍वीरें रखें।
  • बेड को कक्ष के दरवाजे के सामने, बीम और गार्डर के नीचे नहीं लगाना चाहिए। आपके बेड की पॉजिशन ऐसी होनी चाहिए कि वहां से दरवाजा दिखाई दे। कोशिश करें कि अपने डबल बेड के लिए सिंगल गद्‌दे का प्रयोग करें। माना जाता है कि डबल गद्‌दे दंपती के बीच अलगाव और दूरियों का कारण बन सकते हैं।
  • आजकल यह प्रचलन हो गया है कि युगल अपने बेड के समक्ष बडा-सा शीशा लगाने लगे हैं, जिससे वे सेक्स संबंध बनाते समय खुद को देख सकें। ऐसा नहीं करना चाहिए। शयन कक्ष में शीशा नहीं लगाना चाहिए, खासकर बेड के सामने तो बिल्कुल भी नहीं।
  • शयनकक्ष में रखी आलमारी को लोग अक्‍सर स्‍टोर रूम की तरह इस्‍तेमाल करते हैं। जो चाहा और जितना चाहा, सामान ठूंस दिया। आप नहीं जानते कि ऐसा करके आप अनजाने में अपने कक्ष में नकारात्‍मक उर्जा को आमंत्रित कर रहे है। आलमारी में सामान सलीके से रखना चाहिए। व्‍यर्थ का और यदा-कदा उपयोग में आने वाला सामान आलमारी में न रखें। सामान के बीच कुछ खाली स्‍थान अवश्‍य होना चाहिए।
  • फेंग्‍शुई के पृथ्‍वी व अग्नि तत्‍व प्रेम का प्रतिनिधित्‍व करते हैं। कोशिश करें कि अपने शयनकक्ष में इन दोनों तत्‍वों का प्रभाव बढाने वाले रंगों, आकृतियों व गैजेट्स का उपयोग करें। वहीं जल, लकडी और धातु तत्‍व के प्रतिनिधि सामान को अपेक्षाकृत कम स्‍थान दें। लेकिन ध्‍यान रहे कि इन तत्‍वों का एक संतुलित मात्रा में होना आवश्‍यक है। इनका असंतुलन आपके दांपत्‍य संबंधों में भी असुंतलन पैदा कर सकता है। बेहतर हे कि आप इस कार्य के लिए किसी विशेषज्ञ की सेवाएं लें।
  • अगर आप विवाह योग्‍य हैं और आपके विवाह में बाधा आ रही है तो तो आप अपना मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए अपने कमरे में पिओनिया के फूल एवं चंद्रमा की तस्वीर लगानी चाहिए। यह उपाय आपके लिए मददगार साबित होगा।
  • आपका कमरा साफ-स्वच्छ व इस प्रकार सुस्सजित होना चाहिए कि आपको वहां आते ही सुकून महसूस हो। कमरे में आपके व्यापार या ऑफिस से जुड़ा कोई भी सामान जैसे कम्प्युटर या फाइलें आदि नहीं होने चाहिएं। ये चीजें आपकी एकाग्रता को बाधित करती हैं।
  • फेंगशुई कहता है कि अगर आप सुकून की नींद चाहते हैं तो सोने से 15 मिनट पूर्व शयनकक्ष में मोमबत्तियां जला लें। इससे शयनकक्ष की नकारात्मक उर्जा निष्कासित हो जाती है। मोमबत्तियां बेड रूम में दक्षिण कोने में लगाएं। उनकी संख्या जोड़े में हो और वे बैंगनी रंग की हों।

Leave a comment