Vastu for Living Room
28 Sep

ड्राइंगरूम (लिविंग रूम) को बनाएं वास्तुसम्मत

ड्राइंग रूम घर का सबसे खूबसूरत स्थान होता है। यह वह स्थान होता है, जहां न सिर्फ आप अपना दिनभर का अधिकांश समय बीताते हैं, बल्कि आगंतुकों की मेहमाननवाजी भी करते हैं। आगंतुक को आपके घर की साज-सज्जा, आपकी जीवनशैली और इंटीरियर के बारे में समझ का अंदाजा ड्राइंगरूम को देखकर ही हो जाता है। इसीलिए महत्वपूर्ण है कि आप अपने ड्राइंगरूम को किस प्रकार सुसज्जित करते हैं।

ड्राइंगरूम से जुड़े आवष्यक दिशा-निर्देशों की चर्चा करने से पूर्व आपको यह जानना आवष्यक है कि घर के इस सबसे अहम स्थान को किस दिशा में होना चाहिए, जिससे यह पारीवारिक सदस्यों को शुभ फल प्रदान करे। प्रवेश द्वार की तरह ही ड्राइंग रूम भी अति महत्वपूर्ण है, लिहाजा इसके लिए सर्वोचित स्थान उत्तर, पूर्व अथवा, उत्तर-पूर्व है।

अगर आपके घर में ड्राइंगरूम उपरोक्त दिशाओं में न होकर दक्षिण, दक्षिण-पष्चिम अथवा पष्चिम में है और उन्हें अन्यत्र स्थानांतरित करने का विकल्प नहीं है तो भी आपको चिंता करने की आवष्यकता नहीं है। इसके लिए वास्तु में रेमिडी यानी उपायों का प्रावधान है।कुषल वास्तु विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में इन उपायों को अपनाकर ड्राइंगरूम से संबंधित वास्तुदोष निवारण कर सकते हैं।

ड्राइंगरूम का इंटीरियर इस प्रकार का होना चाहिए कि वहां चलने-फिरने के लिए पर्याप्त स्थान हो।ड्राइंगरूम में फर्नीचर दीवारों से सटाकर नहीं रखना चाहिए, बल्कि उनके पीछे इतना स्थान अवष्य हो कि वहां हवा का प्रवाह बना रहे, जिससे कमरे में पर्याप्त ऊर्जा बनी रहे। जब आप अपना ड्राइंगरूम सजाएं तो इन बातों पर अवष्य ध्यान दें-

  • सोफा सेट को दक्षिण या पष्चिमी हिस्से की दीवार के पास रखें।
  • पानी के शो-पीस जैसे फाउंटेन या फिश.एक्वेरियम कक्ष के उत्तरी कोने में रखने चाहिएं।
  • अग्नि एवं वायु एक-दूजे के पूरक अर्थात मित्र माने जाते हैं। अगर कक्ष में फायर प्लेस बनाना चाहते हैं, तो उसे दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पष्चिमी भाग में बनाएं।
  • ड्राइंग रूम में प्राकृतिक रोशनी पर्याप्त मात्रा में रहे, यह सुनिष्चित करने के लिए कक्ष की उत्तरी या पूर्वी दीवार में बड़ी खिड़कियां बनानी चाहिए।
  • ड्राइंगरूम की दीवारों के रंग हल्के हों।
  • दीवारों के रंग छत के रंग से अलग हों।
  • कक्ष में ऐसी कोई तस्वीरें या शो-पीस न हों, जो युद्ध, मौत और गुस्से को दर्षाते हों।

Comments(01)

  1. Sir , Mera Naam Nitin he.meri Barth date 28/10/1978. Or time 1.25 ka .meri Janam kundli ke hisab se he. Par meri fufiji kehRahi thi ke mera Barth 12.00pm Ko hua tha to sir meri bad’y kon si hogi.or me konsa kaam Karu jise me Safal house.

    Nitin January 3, 2019 Reply

Leave a comment