इंडिया टीवी हो या इंडिया न्‍यूज या फिर एनडीटीवी या देश का कोई 
दूसरा बडा न्‍यूज चैनल और अखबार, उत्‍तर प्रदेश की राजनीतिक 
उठापटक ही सुर्खियों में है। मुलायम सिंह यादव द्वारा अपने बेटे और 
उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को पहले छह साल का पार्टी 
गमन और फिर महज 24 घंटे के भीतर ही उन्‍हें फिर से पार्टी में बहाल 
करने के अनपेक्षित फैसले लिए गए। राजनीतिक विश्‍लेशक इसे 
अपनी-अपनी तरह से परिभाषित कर रहे हैं। कोई इसे सपा का विघटन 
की आहट बता रहा है तो कोई इसे वोटरों की सहानुभूति पाने और उनका 
ध्‍यान खींचने के लिए सपा का चुनावी स्‍टंट मान रहा है।  
बहरहाल, कयास तो लगाने के लिए ही होते हैं। लेकिन इस सबसे इतर 
इस घटना के मूल कारणों की पडताल करते हुए अंतर्राष्‍ट्रीय वास्‍तु गुरू 
श्री नरेश सिंगल का कहना है कि अखिलेश यादव के राजनीतिक जीवन 
में आयी इस हलचल की वजह है राहू। जी हां, श्री सिंगल का कहना है कि 
गत 7 अक्‍तुबर( 2016 को अखिलेश यादव ने 4 विक्रमादित्‍य मार्ग, 
लखनऊ स्थिति बंगले को अपना आवास बनाया था। 4 नंबर जो कि 
अखिलेश यादव के बंगले का है यह नंबर राहू का प्रतिनिधित्‍व करता है। 
श्री सिंगल का मानना है कि अखिलेश यादव के राजनीतिक और नीजि 
जीवन में हो रही उठापटक इसी आवास परिवर्तन की एक वजह है।  
श्री सिंगल का यह भी कहना है कि अभी यह उठापटक और जारी रह 
सकती है, लेकिन अंतत: अखिलेश यादव को इसका लाभ ही मिलेगा। 
स्थितियां देर-सवेर उनके हक में ही जाएंगी। अखिलेश यादव की 
जन्‍मतिथि 1 जुलाई, 1973 के आधार पर विश्‍लेशन करते हुए उन्‍होंने  
कहा कि अखिलेश यादव मानसिक शक्ति से भरपूर हैं और इसी शक्ति
की बदौलत वे देश की राजनीति में और प्रभावी तरीके से खुद को 
स्‍थापित करने में कामयाब होंगे। उनकी राशि का स्‍वामी सूर्य उन्‍हें 
यथेष्‍ट मान-सम्‍मान दिलाएगा। अखिलेश यादव को उन्‍होंने आने वाले 
साल यानी 2017 को भी अखिलेश यादव के लिए महत्‍वपूर्ण बताया।  
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>